Home News हमास-इजरायल ‘युद्ध’ में अब तक गई 1300 से ज्यादा लोगों की जान,...

हमास-इजरायल ‘युद्ध’ में अब तक गई 1300 से ज्यादा लोगों की जान, बेंजामिन नेतन्याहू बोले, ‘हमारा बदला अभी बस शुरू ही हुआ है’ | बड़ी बातें

76
0

Israel Attack: हमास और इजरायल के बीच जारी संघर्ष में अब तक 1,300 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं और स्थिति अभी शांत होती नहीं दिख रही है. इजरायली प्रधानमंत्री की चेतावनी कुछ ऐसा ही इशारा कर रही है.

Israel Gaza Hamas Palestine Attack: चरमपंथी संगठन हमास और इजरायल के बीज जंग जारी है. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार (7 अक्टूबर) को हमास की ओर से इजरायल पर हमला करने और फिर इजरायली अटैक के चलते अब तक दोनों तरफ से मिलाकर 1,300 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. इजरायल में 700 से ज्यादा लोगों ने जान गंवाई है, वहीं गाजा में कम से कम 560 लोगों की मौत हुई है.

वहीं, स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हमास के हमलों में इजरायल में कम से कम 900 लोग मारे गए हैं. इस बीच इजरायल के विदेश मंत्रालय ने कहा कि हमास ने 100 से ज्यादा लोगों को बंदी बना लिया है. विदेश मंत्री एली कोहेन ने कहा है कि इजरायली अधिकारियों का अब मानना है कि 100 लोगों को हमास ने बंदी बना लिया और उन्हें गाजा ले जाया गया.

बदला अभी बस शुरू ही हुआ है- इजरायली पीएम

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू लगातार की स्थिति का जायजा लेते हुए हमास को कड़ी चेतावनी दे रहे हैं. शनिवार को उन्होंने युद्ध शुरू होने की बात कही थी. सोमवार (9 अक्टूबर) को नेतन्याहू ने कहा, ”हमास के खिलाफ बदला अभी बस शुरू ही हुआ है.” इससे पहले एक टीवी संबोधन में उन्होंने हमास से हिसाब चुकता करने की कसम खाई थी और कहा था कि चरमपंथी जहां भी छिपे होंगे, इजरायली सेना वहां पहुंचेगी. उन्होंने सोमवार शाम को तेल अवीव के किरया में सुरक्षा का जायजा लिया.

वेस्ट बैंक में इजरायल ने की पूर्ण घेराबंदी

इजरायली सेना ने वेस्ट बैंक में पूर्ण बंदी लगा दी है. इस इलाके में करीब 2.8 मिलियन (28 लाख) फलिस्तीनी रहते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि कस्बों और शहरों के प्रवेश द्वार लोहे के गेट, सीमेंट ब्लॉक और मिट्टी के ढेर से बंद कर दिए गए हैं. कुछ जगहों पर नई सैन्य चौकियां स्थापित की गई हैं. कुछ पेट्रोल पंपों पर दिनभर लंबी कतारें लगी रहीं क्योंकि ईंधन की आपूर्ति खत्म हो गई है. इजरायल के रक्षा मंत्री योव गैलेंट ने कहा कि इजरायल गाजा पर पूर्ण घेराबंदी कर रहा है. उन्होंने कहा, “वहां बिजली नहीं है, खाना नहीं है, पानी नहीं है, ईंधन नहीं है.” रिपोर्ट्स के मुताबिक, इजरायली सरकार कब्जे वाले वेस्ट बैंक में बसने वालों को 1,000 एम16 राइफलें वितरित करेगी.

‘…तो इजरायली बंदियों को मारना शुरू कर देंगे’, हमास की अल कसम ब्रिगेड ने दी चेतावनी 

हमास की सशस्त्र शाखा अल कसम ब्रिगेड ने चेतावनी दी है कि अगर इजरायल ने गाजा में नागरिकों के घरों पर बमबारी जारी रखी तो वह इजरायली नागरिक बंदियों को मारना शुरू कर देगा. हालांकि, बीबीसी के मुताबिक, हमास के अंतरराष्ट्रीय संबंधों के प्रमुख बसेम नईम ने कहा कि समूह अपने बंधकों के साथ बहुत ही मानवीय और सम्मानजनक तरीके से व्यवहार करने के लिए बाध्य हैं. हालांकि, उन्होंने बंधक बनाए गए लोगों की संख्या की पुष्टि करने से इनकार कर दिया. 

नईम ने दावा किया कि हमास के नेता मोहम्मद डेफ ने लड़ाकों को निर्देश दिया है कि वे बुजुर्गों, नागरिकों और बच्चों का सम्मान करें और ऐसे किसी व्यक्ति को न मारें जो सीधे तौर पर लड़ाई में शामिल नहीं है. इसी के साथ नईम ने कहा, ”…लेकिन हम जानते हैं कि लड़ाकों ने वास्तव में इजरायली समुदायों में बड़ी संख्या में नागरिकों की बेरहमी से हत्या कर दी, जिसमें गाजा सीमा के पास एक संगीत समारोह में लगभग 300 लोगों का नरसंहार भी शामिल है, जिनमें से कई युवा थे.”

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस का रिएक्शन

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने सोमवार को इजरायल के खिलाफ हमास के हमले की निंदा की लेकिन कहा कि वह गाजा पट्टी में इजरायल की ओर से की गई घेराबंदी लागू करने से बहुत व्यथित हैं. इस बीच समाचार एजेंसी एपी ने एक तस्वीर साझा की और दावा किया कि सोमवार को गाजा पट्टी में इजरायली हवाई हमले के बाद धुआं उठता दिखा.

हमास के खिलाफ अब तक के सबसे बड़े हवाई हमले का संचालन- IDF

इजरायल डिफेंस फोर्सेज (IDF) ने सोमवार को अपने आधिकारिक X हैंडल से पोस्ट किया, ”शनिवार को हमास ने 700 से ज्यादा इजरायलियों का बेरहमी से मार डाला. इजरायली वायु सेना इजरायल के लोगों को आतंकित करने की उनकी क्षमता को कमजोर करने और उन्हें नष्ट करने के लिए गाजा में हमास के खिलाफ अब तक के सबसे बड़े हवाई हमलों में से एक का संचालन कर रही है. हमास ने युद्ध छेड़ा, हम अपने देश में सुरक्षा बहाल करेंगे.”

IDF का दावा- गाजा पट्टी में 1,200 से ज्यादा लक्ष्यों को निशाना बनाया

इसी के साथ आईडीएफ ने एक पोस्ट में हवाई हमले का वीडियो साझा करते हुए लिखा, ”शनिवार और सोमवार की सुबह के बीच गाजा पट्टी में इजरायली विमानों की ओर से 1,200 से ज्यादा लक्ष्यों को निशाना बनाया गया, जिनमें हथियार भंडारण, मैन्युफैक्चरिंग साइट्स, कमांड और कंट्रोल सेंट्रर्स, रॉकेट लॉन्चर और बहुत कुछ शामिल है. आज हमने वह संख्या दोगुनी कर दी.”

एक पोस्ट में आईडीएफ ने जानकारी दी कि इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने लेबनान से इजरायल में प्रवेश करने वाले कई आतंकी घुसपैठियों का मार गिरााया. हम अपने देश की रक्षा कर रहे हैं और सभी सीमाओं पर तैयार हैं.” आईडीएफ ने कहा कि 300,000 इजरायली रिजर्व ड्यूटी के लिए रिपोर्ट करते हैं. 

इस भारत में इजरायल के राजदूत नाओर गिलोन ने X पर एक पोस्ट में लिखा, ”हम वास्तव में आपके और भारतीयों के दृढ़ समर्थन की सराहना करते हैं, चाहे वे कहीं भी हों.” कतर विदेश मंत्रालय ने मध्यस्थता वार्ता की पुष्टि की है. उसने कहा कि विदेश मंत्रालय ने पुष्टि की है कि वह हमास और इजरायली अधिकारियों के बीच मध्यस्थता करने का प्रयास कर रहा है.

हम मध्य पूर्व को बदलने जा रहे हैं- नेतन्याहू

इजरायल की दक्षिणी सीमा पर स्थानीय महापौरों से बात करते हुए बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, ”हम मध्य पूर्व को बदलने जा रहे हैं.” उनके कार्यालय से जारी बयान नें कहा गया कि हमास को जो अनुभव होगा वह कठिन और भयानक होगा.

स्कॉटलैंड के प्रथम मंत्री के सास-ससुर गाजा में फंसे

इस बीच स्कॉटलैंड के प्रथम मंत्री हमजा यूसुफ ने कहा है कि उनकी पत्नी के माता-पिता इस समय गाजा में फंसे हुए हैं. यूसुफ के ससुराल वाले एक हफ्ते पहले परिवार से मिलने के लिए गाजा गए थे. उन्होंने कहा, “मैं और मेरी पत्नी उनकी चिंता से परेशान हैं.” उन्होंने यह भी कहा, ”हम कभी भी निर्दोष नागरिकों की हत्या को उचित नहीं ठहरा सकते.” इस बीच इजरायल में मारे गए लोगों में स्कॉटलैंड के एक व्यक्ति के होने की भी पुष्टि की गई है. मृतक की पहचान ग्लासगो में पले-बढ़े बर्नार्ड कोवान के रूप में हुई है.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने पीएम मोदी से किया ये आग्रह

इजरायल-हमास संघर्ष के बीच प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मध्यस्थता करने और स्थायी शांति की वकालत करने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल का आग्रह किया.  संगठन ने फिलिस्तीन में युद्ध की भी निंदा की और फिलिस्तीनी लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त की.

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों का वीडियो हुआ वायरल

उत्तर प्रदेश में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने फलिस्तीन के समर्थन में मार्च निकाला. एएमयू छात्रों का फलिस्तीन के समर्थन में नारे लगाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. हमास और इजरायल संघर्ष के बीच भारत में राजनीतिक खींचतान देखी जा रही है. हालांकि, भारत सरकार ने इस स्थिति में इजराइल के समर्थन की घोषणा की है और हमास के हमले की निंदा की है.

कांग्रेस ने क्या कहा?

कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) ने सोमवार को एक प्रस्ताव पास किया गया, जिसमें कहा गया कि सीडब्लयूसी मीडिल ईस्ट में जंग में लोगों के मारे जाने पर पीड़ा जाहिर करती है. सीडब्लयूसी फलिस्तीनी लोगों के जमीन, उनके शासन, आत्म-सम्मान और गरिमा के साथ जीवन के अधिकारों के समर्थन को दोहराती है.

इस बीच निर्यातकों ने सोमवार को कहा कि इजरायल-हमास संघर्ष के कारण भारत और इजरायल के बीच रत्न और आभूषण के व्यापार पर असर पड़ने की आशंका है.

यह भी पढ़ें-Israel-Palestine Conflict: क्या है इजराइल-फिलस्तीन विवाद, कैसे जमीन के एक टुकड़े के लिए तीन धर्म लड़ रहे हैं?https://newszmint.com/israel-palestine-conflict/

Previous articleIsrael-Palestine Conflict: क्या है इजराइल-फिलस्तीन विवाद, कैसे जमीन के एक टुकड़े के लिए तीन धर्म लड़ रहे हैं?
Next articleIND vs AFG: तीन स्पिनर्स या फिर तीन तेज गेंदबाज? अफगानिस्तान के खिलाफ मैच से पहले फंसा पेंच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here